-->

beautiful love shayari for facebook

 दिल के हर कोने में बसाया है आपको, अपनी यादों में हर पल सजाया है आपको, यकीं न हो तो मेरी आँखों में देख लीजिये, अपने अश्कों में भी छुपाया है आपको।

वो प्यार जो हकीकत में प्यार होता है, जिन्दगी में सिर्फ एक बार होता है, निगाहों के मिलते मिलते दिल मिल जाये, ऐसा इतेफाक सिर्फ एक बार होता है।

रह न पाओगे भुला कर देख लो,यकीं न आये तो आजमा कर देख लो,हर जगह महसूस होगी मेरी कमी,अपनी महफ़िल को कितना भी सजा कर देख लो।

नज़रें मिले तो प्यार हो जाता है ,पलकें उठे तो इज़हार हो जाता है ❤❤ ना जाने क्या कशिश है चाहत में , के कोई अनजान भी हमारी ज़िन्दगी का हक़दार हो जाता है।❤❤

उलझी शाम को पाने की ज़िद न करो;जो ना हो अपना उसे अपनाने की ज़िद न करो;इस समंदर में तूफ़ान बहुत आते है; इसके साहिल पर घर बनाने की ज़िद न करो

दीवाना हूँ तेरा मुझे इंकार नहीं, कैसे कह दूँ कि मुझे तुमसे प्यार नहीं,कुछ शरारत तो तेरी निगाहों में भी थी,मैं अकेला ही तो इसका गुनाहगार नहीं।

ये हालत हमारी हो गयी तुमसे मिलने के बाद, ज़िन्दगी प्यारी हो गयी है तुमसे मिलने के बाद,हर चीज़ में अजब रंग है मोहब्बत का,हर चीज प्यारी हो गयी है तुमसे मिलने के बाद।

चाहत की कोई हद नहीं होती हैं सारी उम्र भी बीत जाएँ, तब भी कोई मोहब्बत कम नहीं होती हैं

उस पगली की मौहब्बत❤️ का अंदाज भी बड़ा नटखट है, बाहों में भर कर कहती है की संभालो अब मुझको

उन्हें देखा फिर से दर्द उठा… पर उन्हें देखे बगैर रहा भी नहीं ज़ाता ऐसा क्यूं करती है तू ऐ ज़िदंगी क्या तुम्हे हमसे ख़ेले बगैर रहा नहीं जाता…

ज़िन्दगी में किसी का साथ काफी है, हाथों में किसी का हाथ काफी है दूर हो या पास फर्क नहीं पड़ता, प्यार का तो बस अहसास ही काफी है।

मैंने तो सिर्फ तुझ से मोहब्बत करने की दुआ मांगी है,मैंने तो हर दुआ में सिर्फ तेरी वफ़ा मांगी है,ये ज़माना लाख जले हमारी मोहब्बत से,मैंने तो सिर्फ तुझसे मोहब्बत करने की सजा मांगी है।

आ जाओ किसी रोज़ तुम तो तुम्हारी रूह मे उतर जाऊँ ! साथ रहूँ मैं तुम्हारे ना किसी और को नज़र आऊँ ! चाहकर भी मुझे कोई छू ना सके मुझे कोई इस तरह ! तुम कहो तो यूं तुम्हारी बाहों में बिखर जाऊँ !

ये नज़र भी कमाल कर गई तेरी मेरी मोहोब्बत को सर-ऐ-आम कर गई अब तो लोग भी राह चलते पूछते है हमसे तेरी चाहत हमें बदनाम कर गई

ऐ ख़ुदा तू कभी इश्क़ न करना बेमौत मारा जाएगा, हम तो मर के भी तेरे पास आते हैं पर तू कहाँ जाएगा…

आँखों से नींद और दिल का चैन ना जाने कब कहीं खो जायेगा, तुम भी कुछ कुछ मुझसे हो जाओगे जब इश्क तुम्हें हो जायेगा

उदासिया इश्क की पहचान हैं, मुस्कुरा दिए तो इश्क बुरा मान जाएगा

इश्क़ का दस्तूर ही ऐसा हैं जो इस को जान लेता हैंये उसकी जान लेता हैं…!!!

इश्क़ हो तो चाहत अपने आप बढ़ जाती हैं, दिल की बातें होठों तक अपने आप आ जाती हैं

किसी को क्या बतायें कि कितने मजबूर है हम, चाहा था सिर्फ़ एक तुमको और अब तुम से ही दूर है हम

प्यार में दो पल की जिंदगी बहुत है एक पल की हंसी और एक पल की ख़ुशी बहुत है ये दुनिया मुझे जाने या ना जाने तेरी आँखें मुझे पहचाने यही बहुत है

हर ख़ुशी से खूबसूरत आपकी हर शाम कर दूँ अपना प्यार और दोस्ती आपके नाम कर दूँ मिल जाये अगर दोबारा ये जिंदगी तो हर बार ये जिंदगी आपके नाम कर दूँ

love shayari dikhana

कोई कहता है प्यार नशा बन जाता है! कोई कहता है प्यार सज़ा बन जाता है! पर प्यार करो अगर सच्चे दिल से, तो वो प्यार ही जीने की वजह बन जाता है! 
fb status love


प्यार मे जुदाई भी होती है  प्यार मे बेवफाई भी होतीं है थाम के देख मेरा हाथ पता चलेगा प्यार  मे सचाई भी होती है.

खुदा करे  कभी तो मेरी कोई दूआ कबूल  हो, मै रात को ख़्वाब में देखु तुझे और सुबह  मेरी जिंदगी में तुम शामिल हो. 
किसी मोड़ पर तेरा दीदार हो जाये, काश तुझे मुझ पर ऐतबार हो जाये, . तेरी पलकें झुके और इकरार हो जाये, काश तुझे भी मुझसे प्यार हो जाये। 
दिल ही दिल में तुम्हें प्यार करते हैं, बीएस यूँ ही तुमसे  मोहब्बत का इजहार करते हैं,

जिसको चाहो उसे चाहत बता भी देना, कितना प्यार है उससे ये जता भी देना,गलती से रुठे कभी तो उसे मना  लेना, कि बहुत हसीन होता है ये प्यार का रिश्ता,

 प्यार किसी को  इतना देना की हद न रहे, भरोसा  भी इतना रखना की शक न रहे, वफा इतनी करना की बेवफ़ाई न रहे और दुआ बस इतनी करना की जुदाई न रहे

इस मैसेज मे कैद है दिल का जज़्बात मेरा, इसे खोल के देखो नीचे लिखा है नाम मेरा। कोई पूछे कौन है ये, महबूब तुम्हारा, न घबराना, ले लेना नाम सरे आम मेरा

ये जानते हुए भी आप मेरी किस्मत में नहीं, पर पाने की कोशिश बार-बार करते है

तोड़ लेती अगर तुम गुलाब होते, जवाब देती अगर तुम सवाल होते, सब जानते हैं मैं कभी पीता नहीं ,पी लेती अगर तुम शराब होते

तुम हसीन हो, गुलाब जैसी हो, बहुत नाज़ुक हो ख़्वाब जैसी हो, होठों से लगाकर पी जाऊं तुम्हे, सर से पाँव तक शराब जैसी हो

खुशबू की तरह मेरी हर साँस में, प्यार अपना बसाने का वादा कर,रंग जितने तुम्हारी मोहब्बत के हैं, मेरे दिल में सजाने का वादा कर

चाह कर भी आपको भुला न सकेंगे, तुम ही हो मेरे लबों की हँसी. तुमसे बिछड़े तो फिर मुस्कुरा न सकेंगे

मेरे साँसों में बसी महक तेरी है, हर खुशी हर बात तेरी है, दो पल भी नहीं रह सकते तेरे बिना, धड़कनों से निकलती हर आवाज तेरी है

ना जाने वो कौन तेरा, हबीब होगा, तेरे हाथों में जिसका, नसीब होगा,, कोई तुम्हें चाहे ये कोई बड़ी बात नहीं, जिसको तुम चाहो वो खुश नसीब होगा

दिल की गहराई  से चाहा है तुझे, बहुत  मन्नतों  से पाया है तुझे, तुझे भूलने को सोचूँ भी तो कैसे, किस्मत की लकीरों से चुराया है तुझे

भूल सकते हो तो भूल जाओ, *इजाजत हैं तुम्हे,*  और ना भूल सको तो लौट आना मेरे दिल के दरवाज़े आपके लिए हमेशा खुले हैं 

तेरी चाहत का सिला हर हाल मे देंगे, खुदा भी माँगे यह दिल तो टाल  देंगे, अगर दिल ने कहा तुम बेवफा हो, तो इस दिल को भी सिने से निकाल देंगे.

आँखों से हो के गुज़रा, रूह का  रिश्ता बना डाला ! किसी की चाहत  ने आखि़र, मुझे दरिया बना डाला 

मेरे दिल ने जब भी कभी कोई दुआ माँगी है, हर दुआ में बस तेरी ही वफ़ा माँगी है, जिस प्यार को देख कर जलते हैं यह दुनिया वाले, तेरी मोहब्बत करने की बस वो एक अदा माँगी है।

दिल से दूर और पास भी हैं आप लवो की हँसी हो और अहसास भी हैं आप दिल का सुकून हो मेरी जान भी हो आप 

धागा ख़त्म हो गया मन्नतो में तुझे मांग कर, धड़कने बांध के आया हूँ अबकी बार तेरे नाम पर.

लोग नये साल में बहुत कुछ नया मांगेंगे लेकिन मुझे वही पुराना तुम्हारा प्यार  चाहिए..

दिल में दस्तक़ देती हैं तेरी यादे हर रोज़, एक वही हैं जो हमसे क़भी खफ़ा नही होती

आपकी बातों पर हमें एतबार क्यों है, dil आपसे मिलने को बेकरार क्यों है प्यार तुमसे किया तो गुनहगार क्यों हैं

आँखों मे ख्वाब दिया करते हैं, हम सबकी नींद चुरा लिया करते हैं, अब से जब-जब आपकी पलकें झुकेंगी, समझ लेना हम अपको याद किया करते हैं।
मेरी मोहब्बत का इतना सा फ़साना है, सिमटे तो ख़ाक  फैले तो ज़माना है, 
इस डूबी हुई नाव का किनारा हो तुम, मेरी ज़िंदगी का वो अंजाम हो तुम, यूं तो हर मुस्किल को पार करने की हिम्मत है मुझमे, बस तुमको खोने से डरते है हम
दिल के पास हूँ, कह कर जाते हो तुम, बेकरार है नजर तुमसे मिलने को, फिर क्यों नहीं नजर आते हो तुम
हुशन का बिखरा है यहाँ हर तरफ शवाब,बंद करता हूँ नजर, दिल हो न जाये खराब खुदा भी ढूंढता है तुझको,आसमां से ये शवाब, इस जहां मे तेरा कोई शायद ही, मिले जवाब
मुलाकात मौत की मेहमान हो  गई है, चाहत  की दुनिया विरान हो  गई है, मेरी सांस भी अब मेरी नहीं रहीं , ये जिंदगी आपकी मोहब्बत पर कुर्बान हो गई है।
अस्क बेहते रहे, दिल  धड़कता रहा, वो याद आते रहे, हम आस लगाते रहे, वो हाथ  छुड़ाते रहे, हम से दूर जाते रहे The End.
मतलब के लिए ढूँढते हैं, बिन मतलब जो आए तो क्या बात है, कत्ल कर के  ले जाएँगे दिल मेरा, कोई बातों से ले जाए तो क्या बात है.
तुम साथ रहो दिल में धड़कन की जगह, फिर ज़िन्दगी को साँसों की ज़रुरत कब है 
दिल के सागर में लहरें उठाया ना करो, ख्वाब बनकर नींद चुराया ना करो, बहुत चोट लगती है मेरे दिल को, तुम ख्वाबो में आ कर यूँ तड़पाया ना करो
लबों से छू लूँ जिस्म तेरा, साँसों में साँस जगा जाऊँ, तू कहे अगर इक बार मुझे, मैं खुद ही तुझमें समा जाऊँ
तड़प रहीं हैं मेरी साँसें तुझे महसूस करने को, खुशबू की तरह बिखर जाओ तो कुछ बात बने
कब आपकी आँखों में हमें मिलेगी पनाह, चाहे इसे समझो दिल्लगी या समझो गुनाह, अब भले ही हमें कोई दीवाना करार दे, हम तो हो गए हैं आपके प्यार में फ़ना
तेरे हर गम को अपनी रूह में उतार लूँ, ज़िन्दगी अपनी तेरी चाहत में संवार लूँ, मुलाकात हो तुझसे कुछ इस तरह मेरी, सारी उम्र बस एक मुलाकात में गुज़ार लूँ
चाहा है तुम्हें अपने अरमान से भी ज्यादा, लगती हो हसीन तुम मुस्कान से भी ज्यादा, मेरी हर धड़कन हर साँस है तुम्हारे लिए, क्या माँगोगे जान मेरी जान से भी ज्यादा
दिल की बात जमाने को बता देते हैं, हर एक राज से परदे को उठा देते हैं, आप हमें चाहें न चाहें गिला नहीं इसका, जिसे चाह लें हम उसपे जान लुटा देते हैं
ये आलम शौक़ का देखा न जाये, वो बुत है या ख़ुदा देखा न जाये, ये किस नज़रों से तुम ने आज देखा, कि तेरा देखना देखा ना जाये.
आपसे रोज़ मिलने को दिल चाहता है, कुछ सुनने सुनाने को दिल चाहता है, आपके मनाने का अंदाज़ ऐसा है, कि फिर रूठ जाने को दिल चाहता है
बड़ा मज़ा आता है उसे बार-बार मुझे सताने में, क्यो भूल जाती है कि नहीं मिलेगा, कोई मुझसा चाहने वाला इस जमाने में,
 आज़माकर देख लेना कुछ बात अलग है इस दीवाने में, तारीफ नहीं करता खुद की  मगर ये सच है कोई कसर नहीं छोडूंगा तेरा साथ निभाने में।
लबों से छू लूँ जिस्म तेरा, साँसों में साँस जगा जाऊँ, तू कहे अगर इक बार मुझे, मैं खुद ही तुझमें समा जाऊँ
कब आपकी आँखों में हमें मिलेगी पनाह, चाहे इसे समझो दिल्लगी या समझो गुनाह, अब भले ही हमें कोई दीवाना करार दे, हम तो हो गए हैं आपके प्यार में फ़ना
अपने दिल की जमाने को बता देते हैं, हर एक राज से परदे को उठा देते हैं, आप हमें चाहें न चाहें गिला नहीं इसका, जिसे चाह लें हम उसपे जान लुटा देते हैं
तेरे हर गम को अपनी रूह में उतार लूँ, ज़िन्दगी अपनी तेरी चाहत में संवार लूँ, मुलाकात हो तुझसे कुछ इस तरह मेरी, सारी उम्र बस एक मुलाकात में गुज़ार लूँ
सपनों की दुनिया में हम खोते चले गए, मदहोश न थे पर मदहोश होते चले गए, ना जाने क्या बात थी उस चेहरे में, ना चाहते हुए भी उसके होते चले गए
मजा आता अगर गुजरी हुई बातों का अफसाना, कहीं से तुम बयाँ करते, कहीं से हम बयाँ करते
आपसे रोज़ मिलने को दिल चाहता है, कुछ सुनने सुनाने को दिल चाहता है, था आपके मनाने का अंदाज़ ऐसा, कि फिर रूठ जाने को दिल चाहता है
तुम्हारी ज़ुल्फ़ों के साये में शाम कर लूंगा, सफर इस उम्र का पल में तमाम कर लूंगा
ऐसा क्या लिखूँ की तेरे दिल को तस्सली हो जाए, क्या ये बताना काफी नहीं की मेरी ज़िन्दगी हो तुम
मेरी हर नज़र में बसी है तू, मेरी हर क़लम पे लिखी है तू, तुझे सोच लूँ तो ग़ज़ल मेरी, न लिख सकूँ तो वो ख्याल है तू 
कब तक वो मेरा होने से इंकार करेगा, खुद टूट कर वो एक दिन मुझसे प्यार करेगा, इश्क़ की आग में उसको इतना जला देंगे, कि इज़हार वो मुझसे सर-ए-बाजार करेगा
तुम्हारी प्यार भरी निगाहों को हमें कुछ ऐसा गुमान होता है देखो ना मुझे इस कदर मदहोश नज़रों से कि दिल बेईमान होता है।
संगमरमर के महल में तेरी तस्वीर सजाऊंगा, अपने इस दिल में तेरे ही ख्वाब जगाऊंगा, यूँ एक बार आजमा के देख तेरे दिल में बस जाऊंगा, मैं तो प्यार का हूँ प्यासा तेरे आगोश में मर जाऊॅंगा
तुम मेरी ज़िंदगी में शामिल हो ऐसे, मंदिर के दरवाज़े पर मन्नत के धागे हों जैसे
कोई ग़ज़ल सुना कर क्या करना, यूँ बात बढ़ा कर क्या करना, तुम मेरे थे, तुम मेरे हो, दुनिया को बता कर क्या करना,
तुम साथ निभाओ चाहत से, कोई रस्म निभा कर क्या करना, तुम खफ़ा भी अच्छे लगते हो, फिर तुमको मना कर क्या करना
मेरी हर ख़ुशी हर बात तेरी हैं, साँसों में छुपी ये साँस तेरी हैं, दो पल भी नही रह सकते तेरे बिन, धड़कनों की धड़कती हर आवाज तेरी हैं.
हर दर्द मै सह लू और गम को मे झेलु भाभी की बहन, तू साथ दे अगर मैं जमाने को छोड़कर तेरा होलु.
खुशबू की तरह मेरी हर साँस में, प्यार अपना बसाने का वादा करो, रंग जितने तुम्हारी मोहब्बत के हैं, मेरे दिल में सजाने का वादा करो

 

Similar Topics

एक टिप्पणी भेजें